Home Top Ad

मिथुन राशि

Share:
मिथुन राशि आज का राशिफल
मिथुन राशि को काल पुरुष की कुंडली में तीसरा स्थान प्राप्त है मिथुन राशि का लग्न स्वामी बुध होता है जो बुद्धि व वाणी का कारक ग्रह माना जाता है। बुध को राजकुमार की उपाधि प्राप्त होती है इस कारण मिथुन राशि के जातक सदा मौज-मस्ती में डूबे रहना पसंद करते हैं। लग्न तत्व वायु होता है मिथुन राशि का लग्न चिन्ह स्त्री पुरुष जोड़ा होता है। स्वाभाव से मिथुन राशि का लग्न स्वरुप द्विस्वभाव और लग्न स्वाभाव क्रूर, लग्न उदय पश्चिम, लग्न प्रकृति त्रिधातु प्रकृति, शुभ रत्न पन्ना, लग्नोदय पश्चिम, अराध्य गणपति, लग्न जाति शूद्र, शुभ दिन बुधवार, शुभ अंक 5, विशेषता चतुर और निडर, मित्र राशियाँ तुला और कुम्भ, सत्रु लग्न कर्क और लग्न लिंग पुरुष (कुमार) होता है। लग्न स्वामी बुध होने के कारण मिथुन राशि के लोग जन्म से ही प्रतिभाशाली होते हैं और किसी भी परिस्थिति के अनुसार स्वयं को ढ़ालने में कुशल होते हैं। मिथुन बुध की स्वराशी है तथा बुध वाणी एवं बुद्धि का कारक माना गया है अतः मिथुन लग्न में जन्मे जातकों का बुद्धिमान एवं वाक्पटु होना स्वाभाविक माना गया है। प्रेम संबंधों को लेकर भी मेष राशि के लोग  मन ही मन बहुत उत्साहित रहते हैं। अपनी वाकपटुता के दम पर ये सभी को प्रभावित कर लेते हैं और इसी कारण मिथुन राशि के पुरुषो के लिए स्त्रियाँ जल्दी आकर्षित होती हैं। परन्तु द्वि-स्वभाव राशि होने से अस्थिरता का भाव हमेशा बना रहता है। पशोपेश में रहना और दोहरा व्यवहार कई बार मिथुन राशि के लोगो को भ्रम में डाल देता है जिससे इनको कई बार असफलता भी प्राप्त होती है। मिथुन राशि के जातक बहुमुखी, मनोरंजक, खोजी और प्रेरक होते हैं।

मिथुन राशि का स्वभाव

मिथुन राशि के लोग में धैर्य की कमी होती है और इस राशि के जातक हर चीज को तेजी से करना चाहते हैं चाहे वो बात करना हो या सुनना| शरीर से मिथुन राशि के लोग दुबले पतले और चुस्त दुरुस्त होते हैं इसलिए हमेशा अपनी उम्र से कम आयु के ही दिखते हैं| दिमाग से मिथुन राशि वाले बहुत तेज होते हैं इसलिए बुद्धि से सम्बंधित मामलो में इनसे जीतना मुश्किल होता है| बोलने में बहुत स्पष्ट वक्ता होते हैं और बातो को घुमा फिराकर नहीं कहते इसलिए कई बार लोगो को इनकी बाते बुरी भी लग जाती हैं| मिथुन राशि के लोग एक तरह के ही काम करना पसंद नहीं करते वो हमेशा नया करने की कोशिश करते रहते हैं|

मिथुन राशि की शक्तियां

मिथुन राशि के लोग शांतिप्रिय होते हैं, मिथुन राशि के जातक व्यव्हार में कुशल, शिष्टाचारी और हस्याप्रिय होते हैं| मिथुन राशि के मित्र बनने के लिए सभी उत्साहित रहते हैं| वे हमेशा प्रसन्न रहते हैं| सामान्यतः मिथुन राशि के लोग एकाकी न होकर सामाजिक रहना पसंद करते हैं और मित्रो के समूह में प्रसन्न रहते हैं| बातचीत में इनका मन अत्यधिक लगता है और इनकी पसंद भी बहुत उत्तम होती है ये अपनी बातो से किसी को भी प्रसन्न कर सकते हैं। मिथुन राशि के लोगों में धन या विद्या को जमा करने का स्वभाव नहीं होता। आम तौर पर मिथुन राशि के लोग धन या विद्या को सोखते है और फिर समाज को उसे और भी अच्छा बनाकर लोटा देते है।  मिथुन राशि के लोगो में नए की चाह होती है इसलिए इस राशि के जातको का झुकाव नयी खोज या आविष्कार की ओर होता है

मिथुन राशि की कमजोरियां

मिथुन राशि के लोगो की सबसे बड़ी कमजोरी समय के पाबंद होने की होती है वो समय को लेकर कभी भी पाबंद नहीं होते और यही उनकी सबसे बड़ी कमजोरी होती है इसी कारण कई बार इनके मित्र इनसे कटने लगते हैं। मिथुन राशि के जातक हमेशा बदलाव और उत्साह को ढूंढते है और जब इन्हें नया या बदलाव नहीं मिलता तो यह लोग उदास हो जाते है।

मिथुन राशि के लिए व्यवसाय

क्यूंकि मिथुन राशि के लोग बोलने और बातो में प्रभावित करने में कुशल होते हैं तो कोई भी बेचने वाले काम में ये जल्दी जम जाते हैं। मिथुन राशि के लोग व्यवसाय, राजनेता और अच्छे वैज्ञानिक बनते हैं। मिथुन राशि के लोग पुस्तक लेखन विज्ञापन बनाने भाषण तेयार करने नाटकों को लिखने में निपुण होते है।

मिथुन राशि का खान-पान

इस राशि के जातक ज्यादा बोलने वाले होते हैं इसलिए इन्हे ऎसे भोजन की आवश्यकता होती हैं जो इनके फ़ेफ़ड़ो और स्वशन तंत्र को स्वस्थ रखे| ऐसे सभी खाद्य पदार्थ जो स्वशन तंत्र को मजबूत बनाये इनके लिए अच्छे रहते हैं| इन्हे कैफ़िन युक्त पेय पदार्थ जैसे चाय-काफ़ी और कार्बोनेटेड पेय पदार्थो से दूर रहना चाहिए| दिमाग और स्नायु तंत्र के लगातार काम करने के कारण इन्हे दिमाग को लाभ पंहुचाने वाले भोजन की आवश्यकता होती हैं जैसे ओमेगा-3 फ़ैटी एसिड जो कि मछली,एवोकेडो और अखरोट में पाया जाता हैं|

मिथुन राशि का स्वस्थ्य

मिथुन राशि के जातक अत्यधिक क्रियाशील होते हैं इसीलिए थकने से जल्दी अनिद्रा के शिकार हो जाते हैं| इन्हे रोज कसरत करना चाहिए| ये हमेशा अति उत्तेजित होते हैं मनमुताबिक फल न मिलने के कारण कभी कभी निराशा के शिकार होते हैं|

No comments