Home Top Ad

कर्क राशि

Share:
कर्क राशि चक्र में चौथे स्थान पर आती है। संस्कृत में इस राशि का नाम कर्कश है जिसका हिंदी में अर्थ केकडा होता है, केकड़ा एक चर राशि है, इस राशि का स्वामी चन्द्रमा है। जिन जातको के जन्म के समय चन्द्रमा कर्क राशि में होता है उस जातक की राशि कर्क मानी जाती है। कर्क राशि जल तत्व की एक प्रमुख राशि है। कर्क राशि मे जन्म लेने वाले जातक बुद्धिमान, खुशमिजाज़, उत्कॄष्ट आदर्श वादी, सचेतक और निष्ठावान होता है।

कर्क राशि स्वभाव

कर्क राशि के जातक अपनी राशि चिन्ह के सामान प्रकृति वाले होते हैं। जिस प्रकार राशि चिन्ह केकड़ा बाहर से तो कठोर पर अन्दर से मुलायम होता है उसी प्रकार कर्क राशि के जातक भी बाहर से तो दिखने में कठोर दिखने की कोशिश करते हैं पर दिल से बहुत भावुक होते हैं। जिस प्रकार केकडा जब किसी को अपने पंजों में जकड लेता है तो उसे आसानी से नही छोडता, उसी प्रकार कर्क राशि के लोग भी जब किसी से प्रेम में पड़ जाते हैं तो उसे आसानी से नहीं भूलते। बदले में ऐसी ही उम्मीद इन्हें अपने साथी से रहती है। ये लोग एक कुशल कूट-नीतिज्ञ और बुद्धिमानी होते हैं। कर्क राशि के जातको में अपार कल्पना शक्ति होती है, उनकी स्मरण शक्ति बहुत तीव्र होती है, कर्क राशि के जातक स्वभाव से सरल, संवेदनशील, दयालु और घरेलू प्रवृति के हो सकते है। रिश्तो के सम्बन्ध में कर्क राशि के जातक बहुत गंभीर होते हैं और रिश्ते में हमेशा कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहते हैं। थोडा अभिमानी भी होते हैं और दुसरो के द्वारा अपने ऊपर कुछ भी थोपा जाना पसंद नहीं करते।

कर्क राशि का करियर

कर्क राशि के जातको में अपार कल्पना शक्ति होती है और इनकी स्मरण शक्ति भी बहुत तीव्र होती है। इस राशि के जातक ऐसे व्यापर और नौकरियों में ये प्रायः सफल रहते हैं जैसे विज्ञापन, लेखन, पेंटिंग और शिल्पकार। कुछ और आर्थिक क्षेत्र जिनमे वो सफ़ल हो सकते है जैसे दवाओं और द्रव्यों का आयात, अन्वेशण और खोज, भूमि या खानों का विकास, रेस्टोरेन्ट, जल से प्राप्त होने वाली वस्तुओं और दुग्ध पदार्थ आदि। यह पानी की राशि चन्द्रमा से जुडी होती है। 

No comments