Home Top Ad

मेष राशि

Share:

मेष राशि का दैनिक, मासिक और वार्षिक राशिफल
मेष राशि

वैदिक ज्योतिष में गणनाएं 9 ग्रह, 12 राशियाँ व 27 नक्षत्र के हिसाब से की जाती हैं| ज्योतिष चक्र में मेष राशि प्रथम मानी जाती है मेष राशि का स्वामी मंगल है और भचक्र पर इसका विस्तार 0 से 30 अंश तक माना गया है और इस राशि का पूर्व दिशा पर स्वामित्व है| राशि चक्र का यह प्रथम बिन्दु प्रतिवर्ष लगभग 50 सेकेण्ड की गति से पीछे खिसकता जाता है। इसके तीन द्रेष्काणों (दस दस अंशों के तीन सम भागों) के स्वामी क्रमश: मंगल-मंगल, मंगल-सूर्य, और मंगल-गुरु हैं। सूर्य जब समस्त राशियों से होता हुआ मेष राशी में प्रवेश करता है तभी ज्योतिषीय नव वर्ष प्रारम्भ होता है| मेष राशि का चिन्ह ”मेढा’ या भेडा है,| जिस जातक की जन्म कुंडली में चन्द्रमा मेष राशी में होता है वह जातक मेष राशी का जातक होता है|

मेष राशी अग्नितत्व राशि मानी गई है, इसलिये इस राशि के लोग काफी उर्जावान होते हैं। जिससे इनके कार्य में उत्साह का परिचय मिलता है। इस राशी के जातक निर्भीक व्यक्तित्व के होते हैं और साहस इनमे कूट कूट कर भरा होता है| मेष जातक स्वाभिमानी और मेहनती होते हैं चूँकि मेष एक विचरण करने वाली राशियों मे से एक है, इसलिए इस राशी के जातक स्थिर रहने वाली या एक जगह बैठे रहने वाले कामो में इन्हें काफी प्रयास करना पड़ता है या कहा जा सकता है की इस राशि के लोग एक जगह बैठने वाला काम पसंद नहीं करते हैं| ये आवेश में बहुत जल्दी आ जाते हैं।

मेष राशि के लोगो के लिए भाग्यशाली रत्न

रत्नों में मूंगा मेष राशि वालों के लिए सबसे ज्यादा उत्तम मन गया है| जिन जातको का मंगल ख़राब होता है उन्हें मूंगा पहनना चाहिए। मुंगे को तांबे की अंगूठी में लगाकर मंगलवार के दिन अनामिका अंगुली में धारण करना लाभप्रद रहता है। यदि मूंगा के अलावा हकीम रत्न भी पहना जाना लाभप्रद माना जाता है। पाश्चात्य ज्योतिष विधा के अनुसार मेष राशि के लिए भाग्यशाली रत्न माणिक व हीरा होता है।

मेष राशि के लिए व्यापार और नौकरी क्षेत्र

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बिजनेस / व्यापर की सफलता में राशि का अहम रोल होता है| मेष राशि जातको वैसे तो हर व्यापर में सफल होते हैं पर ज्योतिष विज्ञान के अनुसार मेष राशि के जातको के लिए अनुसंधान, चिकित्सा और संबंधित क्षेत्र, सर्जरी, यांत्रिकी, एथलेटिक्स और खेल, अग्निशमन, साहसिक यात्रा, इंजीनियरिंग और मनोविज्ञान जैसे क्षेत्र ज्यादा बेहतर होते हैं और इन क्षेत्रो में कार्य करने में मेष राशि के जातको को ज्यादा सफलता मिलती है| अगर मेष राशि के जातक व्यापर के लिए निवेश करने की सोच रहे हैं तो जमीन, मकान, खेती एवं उससे जुड़े उपकरणों, दवाइयों के उपकरणों, वाहन विक्रय, खनिज, कोयला में निवेश करने वाले लोगों को मंगल बहुत लाभ देता है। मेष राशि के जातको को किसी भी प्रकार के जोखिम, केमिकल, चमड़े, लोहे से संबंधित कार्य में निवेश करने से बचना चाहिए।

मेष राशि नाम अक्षर

चू, चे, चो, ला, ली, लो, ले, लो अ, आ |Choo, Che, Cho, Laa, Lee, Loo, Le, Lo, A, AA

मेष राशि के नाम

अजय, आरती, आदर्श, आदीप, आदेल, अविनाश, लुकेश, लवली, लोकेश

मेष राशि प्रेम सम्बन्ध

मेष राशि के जातको के लिए प्यार जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है| मेष राशी के जातक प्यार को अपना जन्मसिद्ध अधिकार समझते हैं| प्यार के मामले में मेष राशि के जातक जिद्दी होते हैं इसलिए प्यार हासिल करने में बिलकुल भी नही झिझकते| प्यार के मामलो में में तव्वजो देनी चाहिए| मेष राशि वाले खुद को अनदेखा करना पसंद नहीं करते हैं|

संछिप्त में

संस्कृत नाम: मेष
नाम का अर्थ: मेढ़ा
भाग्यशाली दिन: मंगलवार
भाग्यशाली संख्या: 9, 18, 27, 36, 45, 54, 63, 72
भाग्यशाली रंग: सुर्ख लाल रंग और लाल
भाग्यशाली स्टोन: हीरा, रूबी
सकारात्मक गुण: उद्यमी, तीक्ष्ण, बहादुर, सक्रिय, साहसी ऊर्जावान |
नकारात्मक गुण: अधीर, अविवेकी, स्वार्थी, ईर्ष्यालु, व्यर्थ घमंडी, अहंकारी, मोटे, क्रूर, स्वत्वबोधक, हिंसक
मित्र राशियाँ: सिंह, धनु, मिथुन और कुंभ राशि
मेष राशी नाम से प्रशिद्ध व्यक्ति: रवि शंकर, रामनाथन कृष्ण, बिस्मिल्ला खान, अली अकबर खान, चार्ली चैपलिन, अल गोर, कारमेन इलेक्ट्रा, चार्ली चैपलिन, डेविड फ्रॉस्ट |

No comments