Home Top Ad

Shri Krishna Aarti - आरती श्री कृष्णजी की - आरती युगल किशोर की

Share:
Shri Krishna Aarti - आरती श्री कृष्णजी की - आरती युगल किशोर की

आरती युगल किशोर की कीजै।
राधे तन मन धन न्यौछावर कीजै॥

Aarti Yugal Kishor Ki Kijai।
Radhe tan man dhan nyochhavar kijai॥

रवि शशि कोटि बदन की शोभा।
ताहि निरख मेरो मन लोभा॥

Ravi Shashi Koti Badan ki Shobha।
Tahi Nirakh Mera Man Lobha॥

गौर श्याम मुख निरखत रीझै।
प्रभु को रुप नय भर पीजै॥

Gaur Shyam Mukh Nirkhat Rijhai।
Prabhu Ko Rup Nayan Bhar Pijai॥

कंचन थार कपूर की बाती।
हरि आए निर्मल भई छाती॥

Kanchan Thar Kapur Ki Bati।
Hari Aye Nirmal Bhai Chhati॥

फूलन की सेज फूलन की माला।
रत्न सिंहासन बैठे नन्दलाला॥

Phulan Ki Sej Phulan Ki Mala।
Ratna Sinhasan Baithe Nandlala॥


मोर मुकुट कर मुरली सोहे।
कुंज बिहारी गिरिवर धारी॥

Mor Mukut Kar Murli Sohai।
Kunj Bihari Girvardhari ll

आधा नील पीट पाट सरी।
कुंज बिहारी गिरिवर धारी॥

Adha Nil Pit Pat Sari।
Kunj Bihari Girvardhari ll

श्री पुरुषोत्तम गिरिवर धारी।
आरति करत सकल ब्रज नारी॥

Shri Purshottam Girvar dhari।
Arti karat sakal Brajanari॥

नंदनंदन वृषभानु किशोरी।
परमानन्द स्वामि अविचल जोरी॥

Nandnandan Vnishabhanu Kishori।
Parmanand Swami Avichal Jori ll

No comments