Home Top Ad

गायत्री माता की आरती - Gayatri Mata Aarti- आरती श्री गायत्री जी की - Aarti Shri Gayatri Ji Ki

Share:
गायत्री माता की आरती - Gaytri Mata Aarti- आरती श्री गायत्री जी की - Aarti Shri Gayatri Ji Ki
आरती श्री गायत्री जी की।
ज्ञानदीप और श्रद्धा की बाती।
सो भक्ति ही पूर्ति करै जहं घी की॥
आरती श्री गायत्री जी की॥
Aarti Shri Gayatri ji ki
Gyandeep aur Shraddha Ki Baati
So Bhakti Hi Purti Karai Janh Ghee Ki
Aarti Shri Gayatri Ji Ki

मानस की शुचि थाल के ऊपर।
देवी की ज्योत जगै, जहं नीकी॥
आरती श्री गायत्री जी की॥
Manas Ki Shuchi Thal Ki Upar
Devi Ki Jyoti Jagai, Jahan Niki
Aarti Shri Gayatri Ji Ki

शुद्ध मनोरथ ते जहां घण्टा।
बाजैं करै आसुह ही की॥
आरती श्री गायत्री जी की॥
Sudhh Manorat Te Jahan Ghanta
Bajai Karai Aasuh Hi Ki
Aarti Shri Gayatri Ji Ki

जाके समक्ष हमें तिहुं लोक कै।
गद्दी मिलै सबहुं लगै फीकी॥
आरती श्री गायत्री जी की॥
Jake Samaksh Hamein Tihun Lok Kai
Gaddi Milai Sabahun Lagai Fiki
Aarti Shri Gayatri Ji Ki

संकट आवैं न पास कबौ तिन्हें।
सम्पदा और सुख की बनै लीकी॥
आरती श्री गायत्री जी की॥
Sankat Aawai N Paas Kabau Tinhe
Sampada Aur Sukh Ki Banai Liki
Aarti Shri Gayatri Ji Ki

आरती प्रेम सौ नेम सो करि।
ध्यावहिं मूरति ब्रह्म लली की॥
आरती श्री गायत्री जी की॥
Aarti Prem Sou Nem So Kari
Dhyawahi Murat Brahm Lali Ki
Aarti Shri Gayatri Ji Ki

1 comment: